माँ

मैं मर ही जाता तेरी बद्दुआओं के चलते ,
मुझे मेरी माँ की दुवाओं ने संभाल रखा है ।

मैं फकत टूट कर गिरने ही वाला था ,
मेरा हाथ मेरे अब्बा ने थाम रखा है ।

मुझे तेरी इस दुनियां में रहने का कोई शोक नहीं ,मगर
मेरे वजूद के लिए माँ ने अपनी सांसों को गिरवी रखा है।।

*** आशीष रसीला ***

Ashish Rasila

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.